शुक्रवार, 1 मई 2020

रिश्ते

रिश्ते भी मजबूत हुआ करते हैं
पानी के बुलबुलों की तरह।
                            राजेश्री गुप्ता

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें