गुरुवार, 6 अक्तूबर 2022

भाषा एक वरदान Bhasha ek vardan

भाषा एक वरदान (Bhasha ek vardan)

चिंतन करना मनुष्य का काम है। 
मनुष्य एक विचारशील प्राणी है वह सुनकर एवं पढ़कर दूसरों के विचारों को ग्रहण करता है तथा बोलकर एवं लिखकर अपने विचारों को व्यक्त करता है अपने विचारों को प्रकट करने और दूसरों के विचारों को ग्रहण करने के लिए हमें भाषा की आवश्यकता पड़ती है।
भाषा (bhasha)शब्द संस्कृत की 'भाष' धातु से बना है जिसका अर्थ है बोलना या कहना।
विचार और भाव विनिमय के साधन के लिखित रूप को हम वस्तुतः भाषा कहते हैं।
भाषा (bhasha )शब्द का प्रयोग बहुत ही व्यापक अर्थ में होता है हम मनुष्य अन्य भावों को कभी-कभार ध्वन्यात्मक भाषा न होने पर भी संकेतों द्वारा ही समझ लेते हैं। ऐसी दशा में भाषा अभिव्यक्ति के समस्त साधन भाषा के व्यापक अर्थ में सम्मिलित हो जाते हैं। हम ऐसा कह सकते हैं कि भाषा एक सामाजिक प्रक्रिया है ।वह बोलने और सुनने दोनों के विचार विनिमय का साधन है।
जिस वक्त भाषा का वर्तमान रूप निर्मित हुआ था उस समय मानव संकेतों के माध्यम से अपना काम चलाता होगा। आज भी कई व्यक्ति जो बोल, सुन या देख नहीं सकते संकेतों के द्वारा ही अपना काम चलाते हैं। जैसे-जैसे मानव शक्तियों का विकास होता गया वैसे वैसे भाषा का भी विकास होता गया।
भाषा से सुलभ हुए, सुलभ हुए सब काम।
भाषा हमेशा बदलती रहती है। भाषा का कोई रूप स्थिर या अंतिम रूप नहीं होता। भाषा में यह परिवर्तन ध्वनि, शब्द, वाक्य ,अर्थ सभी स्तरों पर होता है। तो हम कह सकते हैं कि भाषा का विकास हमेशा होता आया है।
भाषा अभिव्यक्ति का सर्वाधिक विश्वसनीय साधन है। यही नहीं इसके द्वारा समाज का निर्माण, विकास, सामाजिक व सांस्कृतिक पहचान आदि भी होता आया है।
भाषा नहीं तो मनुष्य नहीं ।भाषा के द्वारा ही मनुष्य अपनी परंपराओं से, इतिहास से जुड़ा हुआ है। 
पूरे विश्व में हमारा भारत देश अपनी संस्कृति और सभ्यता के लिए पहचाना जाता है। यह पहचान हमें हमारी भाषा के कारण ही मिली है।
भाषा उन्नति अहै ,सब उन्नति को मूल।
हमारी भाषा हमें पीढ़ियों से जोड़ती है। एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी भाषा के कारण ही प्रगाढ़ता से एकाकार हो पाती है।
हिंदी हमारी राजभाषा है। इसका सम्मान हम सभी को करना चाहिए।
जिस व्यक्ति को है नहीं ,निज भाषा का सम्मान। बहुत सुकर सा डोलता, धरे शरीर में प्राण।
हिंदी भाषा दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। हिंदी सिनेमा ने हिंदी भाषा को एक अलग और नई पहचान दी है। वर्तमान में सोशल मीडिया पर हिंदी का बढ़ता दबदबा हम सभी महसूस कर सकते हैं।
भाषा के बिना लिखित साहित्य हो ही नहीं सकता।  हमारे वेद, उपनिषद, ग्रंथ आदि लिपि के कारण ही सुरक्षित रह सके हैं। प्रत्येक भाषा की अपनी लिपि होती है। हिंदी, मराठी, नेपाली, संस्कृत आदि की लिपि देवनागरी है। उर्दू की लिपि फारसी तथा अंग्रेजी की रोमन लिपि है।
भाषा संरक्षण के साथ - साथ पथ प्रदर्शक होती है। इसके द्वारा सूचना का आदान - प्रदान और मानव मन की भावनाओं गहरी अनुभूतियों को भाषा द्वारा ही समझ सकते हैं । इस प्रकार भाषा से हमारा अटूट संबंध है। भाषा ईश्वर का दिया सबसे अनमोल रत्न है। भाषा के बिना सब अधूरा है। भाषा की ताकत नहीं तो ज्ञान संभव नहीं है ।इसके बिना पथ - पथ पर कठिनाइयां है । हम पत्र, पत्रिकाएं, सूचनाएं नहीं पढ़ सकते। दुनिया का हाल नहीं जान सकते ।भाषा के ज्ञान के बदौलत ही हम दुनिया से संपर्क बना सकते हैं। इसके बिना जीवन असफल प्रतीत होता है।
भाषा ही हमें गांव - शहर ,देश-विदेश से जोड़े हुए हैं जो सभी तरह से लाभकारी है और हमारे लिए ईश्वर का दिया हुआ वरदान ही नहीं अभय वरदान है।

बुधवार, 21 सितंबर 2022

शहरी जीवन

शहरी जीवन shahri jivan
चंदन है इस देश की माटी,
तपोभूमि सब ग्राम है।
कहते हैं - भारत गांवों में निवास करता है। गांव इस देश की रीढ़ की हड्डी है और देश की खुशहाली हमारे गांवों की मुस्कुराहट पर निर्भर है। बेशक यह बात शत - प्रतिशत सच है, परंतु फिर भी गांव के लोग शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं । वे अपने गांव छोड़कर  शहरों के आकर्षण की ओर खींचे जा रहे हैं।
हां हां ! भारत दुर्दशा न देखी जाय।
   गांवों की शुद्ध अबोहवा शहरी लोगों को सदैव आकर्षित करती रहती है, क्योंकि शहरों में बस, ट्रक, कार, दुपहियों और  तिपहियों की इतनी भरमार है कि यहां का वायुमंडल अत्प्रयधिक प्रदूषित हो गया है।
शहरों में वायु - प्रदूषण के अलावा ध्वनि प्रदूषण भी अत्यधिक है। इसके अतिरिक्त जल - प्रदूषण भी है। गंदा पानी पीने के कारण शहर के अधिकांश लोग जल - जनित बीमारियों - बुखार, हैजा, दस्त, उल्टी आदि से हमेशा त्रस्त रहते हैं ।ध्वनि - प्रदूषण से शहरों में अधिकांश लोग बहरे हो गए हैं या कम सुनने लगे हैं और वायु प्रदूषण से लोगों को श्वास  संबंधी बीमारियां हो गई है। ये सभी बीमारियां इन शहरों की भी देन है। फिर भी शहर में रहने का अपना आकर्षण बना हुआ है।
आज का शहर विचित्र, नवीन,
धड़कता है हर पल,
चाहे रात हो या दिन।
शहरी जीवन प्रदूषण से बेहाल है। इसके बावजूद यहां की चमक दमक लोगों को अपनी ओर खींच रही है। यहां जीवन उपयोगी हर वस्तु सहज उपलब्ध हो जाती है। इसके अतिरिक्त शहरों में रोजगार के अवसर अधिक है इसलिए शहरों का अपना अलग ही आकर्षण है हालांकि यहां पर लोग गांव की तरह प्रेम और मेलजोल से नहीं रहते।
लोग संगमरमर हुए, ह्रदय हुए इस्पात ।
बर्फ हुई संवेदना , खत्म हुई सब बात।
जिस प्रकार गांव में लोग एक दूसरे की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। प्रतिदिन सुबह-शाम वे चौपाल पर एक दूसरे के हाल-चाल अवश्य पूछते हैं। लेकिन शहरों में तो अधिकांशतः लोग अपने पड़ोसी का नाम तक नहीं जानते , सिर्फ अपने मतलब से मतलब रखते हैं। ऐसा प्रतीत होता है , जैसे सभी अपनी अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिए रह रहे हो।
जहां भी जाता हूं , वीराना नजर आता है ।
खून में डूबा हर, मैदान नजर आता है।
हालांकि केंद्र सरकार गांव के उत्थान के लिए वहां पर हर प्रकार की सहूलियत और साधन उपलब्ध कराने के प्रयास कर रही है, ताकि ग्रामीण लोग शहरों की तरफ पलायन न करें ।परंतु विकास की दर इतनी धीमी है कि अभी गांव में शहरों जैसा विकास होने में बीसियों वर्ष लग जाएंगे।
शहरों में लोगों के पलायन से शहरों की दशा अत्यंत खराब हो गई है। जिनमें दिल्ली शहर मुख्य है। यहां जनसंख्या अत्यधिक होने से ट्रैफिक, प्रदूषण , बीमारियां आदि बहुत बढ़ रही है। इससे पहले कि यहां हालात विस्फोटक हो जाए, सरकार को कुछ करना होगा। 
यह है शहरी जीवन की दशा अथवा दुनिया जिसे समय रहते सुधारना होगा ।
जलते दीपक के प्रकाश में 
अपना जीवन तिमिर हटाए 
उसकी ज्योतिर्मयी किरणों से 
अपने मन में ज्योति जगाएं।
                                  राजेश्री गुप्ता